चीन और भारत के बीच हुई झड़प मैं एक नई खबर सामने आयी है


 क्या चीन ने हमारे 10 जवान बंदी बनाये थे 


दोस्तों चीन और भारत के बिच कई दिनों से झड़प चल रही है ये तो आप जानते ही होंगे की चीन हमारी ज़मीन मैं घुस आया है और वह हमारी ज़मीं पर कब्ज़ा करना चाहता है जिससे की हमारे सेना के जवान भी परेशान हैं और बीते दिनों भारत और चीन के बिच हुई झाड़प के वारे मैं आप को मालूम तो होगा ही की किस तरह चीन ने हमारे इलाके मैं कर हमारे सैनिकों को घायल किया था जिसमे भारतीय सेना के एक मुख्या अधिकारी समेत दो जवान शहीद हो गए थे भारतीय सेना ने भी उनका डटकर सामना किया था पर हमारे जवानो को शहीद होना पड़ा   

galwan ghati news
china india news

 15 जून की रत को जब गलवान की घाटी मैं सैनिकों के बिच झाड़प चल रही थी त ब क्या हुआ 


दोस्तों अब इससे जुडी एक नयी खबर निकलकर सामने रही है की 15 जून की रत को जब गलवान की घाटी मैं सैनिकों के बिच झाड़प चल रही थी इस झाड़ाप मैं एक जनरल समेत 20 जवानों ने अपनी  गवां दी थी जिसमे भारतीय सैनिकों ने भी मुँह तोड़ जवाब दिया था लेकिन अब इसमें जो खबर सामने रही है वह यह हे कि 15 जून की रात चीनी सैनिकों ने हमारे 10 सैनिकों को बंधी बना लिया था 

दोस्तों न्यूज़ एजेंसियो द्वारा यह चौकाने वाला खुलासा किया है की चीनी सेना हमारे 10 सैनिको को बंधी बना लिया था दोस्तों अगर देखा जाये तो गलवान की घाटी में भारत का दबदबा है पर  अभी के समय में चीन हमारे इलाके की ज़मीन पर कब्ज़ा जमाना चाहता है दोस्तों भारतीय सेना लद्दाख मैं स्थित ;गलवान की घाटी मैं चीन का कब्ज़ा नहीं होने देगी 

भारत सरकार  चीन को करारा जवाब देने को तैयार है यदि चीन हमारी ज़मीन पर से नहीं जाता है तो भारत सरकार चीन को सबल सीखने के तैयार है एवं हमारे सुरक्षा मंत्रालय एवं सेना बलों ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है 

 

चीन  को सबक सीखना ज़रूरो है


चीनी सामान का पूरी तरह बहिष्कार किया जा रहा है पूरा देश आज चीन का पुरज़ोर विरोध कर रहा है इसीलिए हम भी आज चीन को सबक सीखने के लिए चीनी वस्तुओं का विरोध करें हमें  पूरी तरह चीनी सामान का विरोध करना होगा दोस्तों चीन को उसी की भाषा  मैं सबक सिखाना होगा 

आज चीन बड़ी मात्रा में भारत से व्यापर करता है चीन हमारे भारत मैं कई वस्तुओ को अपने मनमाने मूल्यों मैं बेचता है और हम ज़रुरत के मुताबिक खरीदते हैं जिससे चीन को बड़ी मात्रा में फायदा होता है हमें चीन की कमर यहीं से  होगी एवं चीन को भारत में व्यापार नहीं करने देना होगा 

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.