प्रधानमंत्री आवास योजना PM AWAS YOJNA



pradhan mantri awas yojana gramin


प्रधानमंत्री आवास योजना   pm awas yojna

 जो भी व्यक्ति या परिवार आज के समय तक अपने स्वयं के आवास घर से वांछित रह गए हैं, केन्द्र सरकार द्वारा ऐसे परिवारों व्यक्तियों के लिये प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan mantri awas Yojana) की घोसणा की है इस योजना का लाभ सभी व्यक्ति ले सकते हैं जो व्यक्ति या परिवार अपना स्वयं का घर नहीं खरीद सकते हैं, या किसी भी कारण से अपने पुराने घर को सुधरवाने या बनवाने में असमर्थ हैं ऐसे व्यक्ति केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अपना स्वयं का आवास अब बनवा या खरीद सकते हैं  
यह सब प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan mantri awas Yojana) द्वारा संभव है भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना की स्कीम महंगे रियल स्टेट सेक्टर की अपेक्षा लोगो को सस्ते घर उपलब्ध करने के उद्देश्य से की गयी थी इस स्कीम का लक्ष्य 20 मिलियन घरों का निर्माण कर के सबके लिए घर के अपने उद्देश्य को पूरा करना है

pradhan mantri awas yojana gramin online

अर्बन शहरी लोगो के लिए योजनायें 

शहरी वासियों के लिए भी प्रधानमंत्री (Pradhan mantri awas Yojana) आवास योजना का प्रावधान लागू किया गया हे शहरी एबं अर्बन क्षेत्रों में भी इस योजना को पुर्ण करने का काम किया गया है शहर में निवास करने वाले लोग भी इस लाभ ले सकते हैं शहरी एवं अर्बन क्षेत्रों में भी इस योजना को पूर्ण करने का काम किया जा रहा है

प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan mantri awas Yojana) की इस स्कीम में 5000 के अंतर्गत कसबे शहर हैंA केंद्र सरकार इन सभी क्षेत्रों में जल्द से जल्द कम से कम समय में अधिक से अधिक लोगों को आवास देने का प्रयास किया जा रहा हैSA  प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कई गरीब एवं माध्यम वर्गीय परिवारों को आवास उपलब्ध कराये जा रहे हैं, इसमें शहरी विकास क्षेत्र प्राधिकरण विकास क्षेत्र अधिसूचना योजना प्राधिकरण और नियमों के लिए उत्तरदायी सभी प्राधिकरण शामिल हैं

 

सब्सिडी

प्रधानमंत्री आवास योजना (Pradhan mantri awas Yojana)  को  31 मार्च 2020 तक बड़ा दिया गया है इस योजना के तहत बड़ा दिया गया है, इस योजना के अंतर्गत घर बनाने या खरीदने के लिए लोन लिया जा सकता है, एवं  जो भी लोग काम आय यानि लोअर इनकम ग्रुप के अंतर्गत आते हैं ऐसे परिवारों को ब्याज सब्सिडी का भी प्रभ्धान है अतः जिन लोगों की वार्षिक आय 3 लाख रुपए से भी काम है ऐसे लोग ईडब्लूएस में आते हैं एवं जिन लोगों की आय 6 लाख रुपए से कम है ऐसे लोग एलआईजी की श्रेणी में आते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.